बुध ग्रह के उपाय((Mercury)

बुध ग्रह के उपाय

बुध ग्रह का परिचय
बुध सूर्य के सबसे नजदीक का ग्रह है बुध ग्रह का व्यास 3000 मील का है .बुध ग्रह सूर्य से मध्य दूरी 36,000,000 मील है बुध ग्रह सूर्य की एक परिक्रमा 88 दिन में 29 .8 मील प्रति सेकंड की गति से चलकर पूरी करता है पृथ्वी से देखने पर बुध ग्रह सूर्य से 27 अंश से कभी दूर नहीं जाता है

वाक शक्ति , कला निपुणता, गणित, लेखन कार्य का विचार बुद्ध से किया जाता है.

बुध ग्रह के उपाय

बुध ग्रह की स्वराशि मिथुन और कन्या है कन्या राशि के 15 अंश पर उच्च का होता है मीन राशि के 15 अंश पर परम नीच का होता है बुद्ध नपुंसक ग्रह है जिस ग्रह के प्रभाव में आता है उसी के अनुसार शुभ व अशुभ फल दायक हो जाता है.

1 मां दुर्गा की पूजा करें(दुर्गा चालीसा का पाठ करें)

2. 4 मुखी रुद्राक्ष धारण करें

3. गाय को प्रत्येक बुधवार को हरा चारा खिलाएं

4. बहन बुआ और मौसी से आशीर्वाद प्राप्त करें
5.किसी नपुंसक को हरा वस्त्र दान करें

6.बुद्ध कवच का पाठ करें

बुद्ध के मंत्र

1 तांत्रिक मंत्र: ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः (जाप संख्या-9000)
2. लघु मंत्र:-ॐ बुं बुधाय नमः
3. बुद्ध के मंत्रों को तुलसी की माला पर जाप करना चाहिए

बुध ग्रह का रत्न- बुध ग्रह का रत्न पन्ना है|पन्ना हरे रंग का होता है| इसका अपना ही एक विशेष हरा रंग है मखमली घास के रंग के समान होता है|पन्ना चांदी या सोने की अंगूठी में पहना जाता है| पन्ना कम से कम 6:15 रत्ती का अवश्य पहने|( पन्ने की अंगूठी को एक विशेष नक्षत्र में और मंत्रों द्वारा शुद्ध करके पहना जाता है)| पन्ने की अंगूठी कनिष्ठिका उंगली में वह जाता है

(पन्ना पहनने से पहले एस्ट्रोमनु से सलाह अवश्य ले ले)

बुध ग्रह की वनस्पति

बुध ग्रह की वनस्पति अपामार्ग व लटजीरा है